क्यों किया जाता है होलिका दहन? क्या है इसकी दिलचस्प कहानी?

क्यों किया जाता है होलिका दहन? क्या है इसकी दिलचस्प कहानी?

Why is Holika Dahan done? What is its interesting story?

होलिका दहन को हर साल देखते समय यह ख्याल आता है कि आखिर क्यों हर साल होलिका दहन किया जाता है और यह प्रथा सदियों से क्यों चली आ रही है।

  • Dharm Gyan
  • 113
  • 24, Mar, 2024
Jyoti Ahlawat
Jyoti Ahlawat
  • @JyotiAhlawat

Why is Holika Dahan done? What is its interesting story?

हिंदू पंचांग के अनुसार होलिका दहन हर साल फाल्गुन मास की पूर्णिमा तिथि के दिन किया जाता है। होलिका दहन के अगले दिन रंगों की होली मनाई जाती है। होली में रंग खेलने के साथ होलिका की अग्नि में सभी नकारात्मक शक्तियों का दहन किया होता है। आइए जानें होलिका दहन की रोचक कथा और इसे मनाने के कारणों के बारे में।

होलिका दहन: बुराई पर अच्छाई की जीत का प्रतीक

होलिका दहन, रंगों के त्योहार होली से पहले मनाया जाता है, और बुराई पर अच्छाई की जीत का प्रतीक है। यह पौराणिक कथा से जुड़ा है जिसमें भक्त प्रह्लाद, भगवान विष्णु के प्रति अपनी अटूट भक्ति के कारण, अपनी दुष्ट चाची होलिका की आग में जलने से बच जाते हैं।

होलिका दहन की कथा:

  • हिरण्यकश्यप, एक शक्तिशाली राक्षस राजा, अहंकारी और क्रूर था। वह चाहता था कि सभी लोग केवल उसकी पूजा करें।
  • उसका पुत्र प्रह्लाद, भगवान विष्णु का परम भक्त था। हिरण्यकश्यप ने प्रह्लाद को कई बार मारने का प्रयास किया, लेकिन हर बार प्रह्लाद भगवान विष्णु की कृपा से बच गया।
  • हिरण्यकश्यप की बहन होलिका, जिसके पास आग में जलने से बचने का वरदान था, प्रह्लाद को मारने का जिम्मा लिया।
  • होलिका प्रह्लाद को अपनी गोद में लेकर आग में बैठ गई। लेकिन भगवान विष्णु की कृपा से प्रह्लाद बच गए, जबकि होलिका खुद आग में जल गई।

होलिका दहन का महत्व:

  • होलिका दहन बुराई पर अच्छाई की जीत का प्रतीक है।
  • यह हमें सिखाता है कि हमें सदा सत्य और धर्म का पालन करना चाहिए, चाहे कितनी भी मुश्किलें क्यों न हों।
  • यह हमें भगवान पर अटूट भक्ति रखने की प्रेरणा देता है।

होलिका दहन की विधि:

  • होलिका दहन के लिए, लकड़ी और उपले का ढेर इकट्ठा किया जाता है।
  • शाम को, ढेर को आग लगाई जाती है।
  • लोग ढेर के चारों ओर इकट्ठा होते हैं और भगवान विष्णु की स्तुति करते हैं।
  • लोग होलिका दहन के बाद एक दूसरे को रंग लगाते हैं और मिठाइयाँ बाँटते हैं।

होलिका दहन मनाने के कारण:

  • बुराई पर अच्छाई की जीत का उत्सव मनाने के लिए
  • भक्त प्रह्लाद की भक्ति और भगवान विष्णु की कृपा का स्मरण करने के लिए
  • बुराईयों को त्यागकर अच्छे कर्म करने का संकल्प लेने के लिए
  • खुशी और उल्लास के साथ रंगों का त्योहार मनाने के लिए

होलिका दहन, बुराई पर अच्छाई की जीत का एक महत्वपूर्ण त्योहार है। यह हमें सिखाता है कि हमें सदा सत्य और धर्म का पालन करना चाहिए और भगवान पर अटूट भक्ति रखनी चाहिए।

Follow the Hindeez on Google News
Follow the Hindeez channel on WhatsApp
Jyoti Ahlawat

Jyoti Ahlawat

  • @JyotiAhlawat