Yoga

Yoga

“योग” शब्द अपने आप में ही पूर्ण विज्ञान के समान है जो शरीर, मन, आत्मा और ब्रह्मांड को एकजुट बनाता है।

  • Dharm Gyan
  • 396
  • 10, May, 2023
Jyoti Ahlawat
Jyoti Ahlawat
  • @JyotiAhlawat

Yoga

yoga

योग अपनी मुद्राओं और आसनों के लिए काफी प्रसिद्ध है। फिटनेस, योग का प्राथमिक लक्ष्य नहीं था अपितु योग साधना के साधकों और अनुयायियों ने अन्य प्रथाओं पर भी ध्यान केंद्रित किया, जैसे कि श्वसन विधियों और मानसिक ध्यान का उपयोग करके आध्यात्मिक ऊर्जा का विस्तार करना।

योग क्या है?

योग आध्यात्मिक, शारीरिक और मानसिक प्रथाओं का एक समूह है जिसकी उत्पत्ति प्राचीन भारत में हुई थी। योग का शाब्दिक अर्थ है जोड़ना। योग शारीरिक व्यायाम, शारीरिक मुद्रा (आसन), ध्यान, सांस लेने की तकनीकों और व्यायाम को जोड़ता है। यह सार्वभौमिक चेतना के साथ व्यक्तिगत चेतना के मिलन का भी प्रतीक है, जो मन और शरीर, मानव और प्रकृति के बीच एक पूर्ण सामंजस्य का संकेत देता है।

योग की उत्पत्ति

योग की उत्पत्ति सिंधु घाटी सभ्यता की अवधि के दौरान हुई, कुछ का कहना है कि यह योग, पूर्वी भारत में पूर्व-वैदिक युग से उत्पन्न हुआ था। कुछ विशेषज्ञों का मानना है कि इसकी उत्पत्ति वैदिक युग में हुई थी। 

भारतीय ऋषि पतंजलि द्वारा योग दर्शन पर लिखे गए 2,000 वर्ष पुराने “योग सूत्र”, को मन और भावनाओं को नियंत्रित करने, और आध्यात्मिक रूप से विकसित करने का एक सम्पूर्ण गाइड माना जाता है।
 

योग के प्रकार 

आधुनिक योग व्यायाम, शक्ति, लचीलापन और श्वास पर ध्यान देने के साथ विकसित हुआ है। यह शारीरिक और मानसिक कल्याण को बढ़ाने में मदद करता है। योग की कई शैलियाँ हैं, और कोई भी शैली दूसरे से अधिक प्रामाणिक या श्रेष्ठ नहीं है। योग विभिन्न प्रकार और शैलियों में शामिल हैं। 

अष्टांग योग – अष्टांग योग, तेजी से सांस लेने की प्रक्रिया को जोड़ता है। इसमें मुख्य रूप से 6 मुद्राओं का समन्वय है।  

कुंडलिनी योग – कुंडलिनी का अर्थ है “एक साँप की तरह कुंडलित होना।” कुंडलिनी योग ध्यान की एक प्रणाली है जिसका उद्देश्य मन में दबी हुई ऊर्जा को जारी करना है।

विक्रम योग – विक्रम योग मुख्य रूप से एक कृत्रिम रूप से गर्म कमरे में किया जाता है। जहां का तापमान लगभग 105 डिग्री (105° फारेनहाइट) और 40 प्रतिशत आर्द्रता होती है। इसे हॉट योग (Hot Yoga) के नाम से भी जाना जाता है। 

हठ योग – ह का अर्थ सूर्य तथा ठ का अर्थ चन्द्र बताया गया है। सूर्य और चन्द्र की समान अवस्था हठयोग है। यह किसी भी योग के लिए एक सामान्य शब्द है, जिसके द्वारा शारीरिक मुद्राएं सीखी जाती है। हठ योग, मूल योग मुद्राओं के परिचय के रूप में काम करता हैं।

जीवामुक्ति योग –  जीवामुक्ति का अर्थ है “जीवित रहते हुए मुक्ति।” योगा का यह फार्म साल 1984 के आस पास उभर कर सामने आया था। जीवामुक्ति योग में किसी भी मुद्रा पर ध्यान केंद्रित करने के बजाय दो मुद्राओं के बीच की गति को बढ़ाने पर ध्यान दिया जाता है। इस ध्यान (फोकस) को विनयसा कहा जाता है। 

कृपालु योग –  कृपालु योग, साधक को को उसके शरीर को जानने, उसे स्वीकार करने और सीखने की शिक्षा देता है। कृपालु योग के साधक आवक देख कर अपने स्तर का अभ्यास करना सीखते हैं। इसकी कक्षाएं श्वास अभ्यास और शरीर को धीरे- धीरे स्ट्रेच करने के साथ शुरू होती हैं। 

योग की मुद्रायें

योग की विभिन्न मुद्राएं निम्न प्रकार हैं-

1

1. स्थायी योग

  • कोणासन – प्रथम
  • कोणासन द्वितीय
  • कतिचक्रासन
  • हस्तपादासन
  • अर्ध चक्रसन

2. बैठने कर करने वाले योग

  • जनु शिरसाना
  • पश्चिमोत्तानासन
  • पूर्वोत्तानासन
  • अर्ध मत्स्येन्द्रासन
  • बद्धकोणासन
  • पद्मासन

3. पेट योगा की मुद्रा में लेटना

  • वसिष्ठासना
  • अधो मुख सवासना
  • मकर अधो मुख संवासन
  • धनुरासन
  • भुजंगासन

4. पीठ के बल लेटकर योग

  • नौकासन
  • सेतु बंधासन
  • मत्स्यासन
  • पवनमुक्तासन
  • सर्वांगसन
  • हलासन

2

Jyoti Ahlawat

Jyoti Ahlawat

  • @JyotiAhlawat